10 May 2013

Politics - My Perspective

Young Shahina Javed in the spotlight [Eastern Age, May, 1996]
this is Shahina's third post, read her earlier post


Childhood brush with politics
My father is fond of politics. From my childhood, I have heard political discussions going on at home. I would hear but not understand these. My school friends didn't want to talk very much about it, and from whatever they said, I felt politics was a bad thing from which I had better stay away. When I was 10 years old, I used to imitate a political leader who I had heard giving a speech. One day the local Councillor visited our home, and prompted by my father, I spoke in front of him in that style.

He liked this very much. He said he would put me on stage during a meeting. I asked my mother, "Ammi, what will I say?" Ammi explained to me what a Councillor's job was and wrote a speech down for me, which I promptly memorized in the way I learnt my lessons by heart.

That evening I gave my speech on the stage. It wasn't the first time I was speaking in public. I had done drama at school previously; the speech was somewhat like that, as what I was saying had no connection with my life. Perhaps everyone liked listening to these words from the mouth of a 10-year old. A number of newspapers wrote about it as well. Everyone gave me a lot of importance and it was fun. I became quite famous in my neighbourhood.

But I never told my friends about my brush with politics, as they didn't think politics was good, and I wanted to blend in. Perhaps it was easier to keep quiet at that time. Gradually the distance grew between me and politics. When my father discussed politics, I used to say that politicians were bad people who are only in the game for their own profit. That they would sell off our country…

Understanding my community
In this way, I grew up. I liked social work a lot and a time came when I got associated with an NGO and started working in my own community. In 2009, through a fellowship programme at TF, I learnt a lot of things; like the responsibility of young people towards society, the many powers that young people possess and how we can bring change.

After this, I also started aspiring for my community. When I used to see kids return from school and start working in some shop, making shoes, plates or envelopes, I used to feel very troubled. I felt that there were far too many responsibilities, and a childhood without play had become our destiny! No one had the time to think about how to improve their lives because if they didn't work, what would they eat? There was only a half-baked education, and the constant anxiety that we would not get jobs. People who were genuinely poor didn't even have their BPL cards [Below Poverty Level Identification]. The Government had many schemes which could benefit people, but they didn't reach us, we didn't get to know about them. We abused politicians but re-elected them the next time. One thought used to nag me - didn't we have any other option?

The positive role of youth
Back in politics [ABP, January, 2012]
But now I think differently. Today I feel that to take the country forward, I need power; and to change the system, it is important to become part of the system. I feel that perhaps abusing politicians gives us a way of escaping from our responsibilities, and we harm our society and country by electing the wrong person. And if we young people really feel a sense of belonging to society and come into politics, then starting with one's own community, we can also go on to bring change in our world. Then the common man's dream of a good society can be fulfilled.

So nowadays I don't hide the fact that I am into politics. Today this makes me proud. I want each and every person to get the rights worthy of being a human being, women to be able to live freely, and there to be no issues surrounding scheduled castes and religious minorities. If we are able to respect and value each other, we can become responsible citizens and we will have the option of choosing an active and responsible citizen as our leader.

Joining the “system”
So I started - the effort of bringing in a big change through small efforts. In 2011, I nominated myself during the election for a party president. This election required the votes of party members, and going by the number of memberships I had created, my win was assured. But I was betrayed by someone from my own side, and lost by 2 votes. Everyone told me, "You should trust no one in politics. You can never make a headway here. It is necessary to lie, and if you learn that art, you will become a leader."

But I shook off those negative thoughts, and as General Secretary, I started afresh, working hard for my people. I used to make people aware of different Central Government schemes, and tell them about their rights. I had a good rapport with the police, so whenever a woman in my neighbourhood was harassed, I would help her.

People in my area used to think that the only job of women was to manage the household and they should respect their husbands, that it was the birthright of men to beat their wives. So whenever I spoke against domestic violence, they used to try to put the fear of god in me. I also didn't give up. I made efforts to learn what religion was actually saying, and got to know that no religion condones violence. If women have been told to respect their husbands, husbands have also been instructed to see ensure that their wives are happy in every way. These are not my words, this is what religion says. It looks like we have been quoting religion according to what suits our needs. When I started talking with adequate proof, quite a number of people started paying heed. For all this, I didn't need to lie. I did my work honestly and truthfully and the support of many people was with me.

See Indian National Congress Ad 2014: Shaina Javed [Bengali] on Youtube

Ethical Dilemmas
There was another youth election in 2013 and I had again prepared to fight for the post of president. This time I fulfilled all my responsibilities myself but still I found that I needed 20 more votes to win. The day before the elections, I met a close adviser to the boy who was contesting against me from Narkeldanga. It was decided between us that if they gave me 25 votes from their share now, I would vote for them in Parliament. This was what happened on Election day and I won by 60 votes.

Everyone was very happy but I couldn't be happy from inside. I was questioning myself time and again - did I do anything wrong? Am I becoming a part of that politics which I used to call names? At that time it was very hard for me to differentiate between the right and the wrong. Sometimes in the process of righting a wrong, we don't even realize when we become a part of that wrong! Perhaps something like this happened with me too. From this I learnt that at such a time, one should at least question oneself whether anyone has been harmed in the process.

I have many identities
Today I am the president of the Beleghata Assembly [2013], and I am trying hard to do work that has value. Here one's political identity is so strong that we judge everyone only on the basis of that. To my mind, election is a part of democracy. Everyone has the right to voice one's opinions. In the presence of an Opposition, the side in power won't be able to do whatever they like, and the public will also be able to choose whom to vote for.

Now the scene is that those in power inflict atrocities on the "other" throughout the year. Whether the "other" is a neighbor, or someone you have grown up playing with, or simply another human being - it doesn't matter. People forget everything else and only see that the person belongs to the other party. If this person approaches them for something, he is shooed away. Latching onto a single identity, that person is deprived of his rights. Whatever party we are aligned with, we should think that we are human beings and that should be our greatest identity. A human being has many identities and each of those identities is necessary for understanding that person. For example, I am a daughter, and a wife, a group member here and a youth trainer there, a student on one hand and a youth leader of a party on the other. We should remember that our humanity is constituted of all these identities.



मेरे नज़रिया से politics



Childhood brush with politics
मेरे पापा को politics बहुत पसंद है। बचपन से ही मेरे घर में politics कि बातें होती थी । मैं सुनती थी पर मुझे कभी समझ में नहीं आता था। स्कूल में मेरे दोस्तों इसके बारे में ज़्यादा बात नहीं करना चाहते थे, और उनसे मुझे लगा की यह बहुत ख़राब चीज़ है और मुझे भी इससे दूर रहना चाहिए। जब मैं १० साल की थी, तब election के वक़्त लीडर को स्पीच देते हुए सुनने के बाद मैं उनके acting किया करती थी। एक दिन हमारे इलाके के Councillor घर आये और पापा के कहने से मैं उनके सामने उस अंदाज़ से कुछ बातें कही जो उन्हें बहुत अच्छा लगा। उन्हों ने कहा कि यह बोलने के लिए वो मुझे meeting के वक़्त stage पर ले जायेंगे। मैंने अम्मी से पूछा, "अम्मी मैं क्या बोलूंगी?" Councillor का क्या काम होता है अम्मी मुझे बताये और लिख कर दी; मैंने पढाई के जैसे उसे याद कर लिया।

उस दिन शाम को मैंने stage पे speech दि। ऐसा नहीं था की मैं पहली बार stage में कुछ बोल रही थी। इससे पहले भी मैं स्कूल में drama कर चुकी थी। उस दिन भी speech देना कुछ उस तरह ही था, क्युंकी मैं जो बोल रही थी उसके साथ मेरा कोई जुराव नहीं था। एक १० साल के बच्चे के मुह से यह बातें सुनना शायद सबकी पसंद आ रहा था। काफी सारे newspaper भी इस बारे में लिखा। सब लोग मुझे बहुत importance दे रहे थे और मुझे बहूत मज़ा आ रहा था। मैं मेरे पाड़ा में काफी famous हो गयी थी। पर मैंने कभी मेरे दोस्तों को नहीं बताया कि मैं politics से जूरी हुई हूँ, क्यूंकि वो लोग इसे अच्छा नहीं समझते थे और मुझे अच्छा बनना था। शायद चुप रहना ही इस समय ज़्यादा आसान था और मैं आसान काम ही करना चाहती थी। आस्ते आस्ते मैं politics से काफ़ी दूर होने लगी। पापा politics के बारे मैं कुछ discussion करते थे तो मैं कहती थी कि politician लोग बूरे होते हैं, सब सिर्फ अपने फायदा देखते हैं। यह लोग देश को बेच देंगे।

Understanding my community
इस तरह मैं बड़ी होने लगी। मुझे social work करना बहुत अच्छा लगता था और एक वक़्त आया जब मैं एक NGO से जुड़ गयी और अपने community में काम करने लगी। 2009 में मैंने TF में एक fellowship programme के माध्यम से बहुत कुछ सीखा जैसे की युवाओं के समाज के प्रति क्या ज़िम्मेदारी है, युवा लोगों में कितना क्षमताएं होते हैं और कैसे हम लोग परिवर्तन ला सकते हैं।

इसके बाद से मैं मेरी community को लेकर काफ़ी सपने देखने लगी। जब मैं देखती थी के मेरे पाड़ा में बच्चे स्कूल से आके किसी दुकान में कम कर रहा है -- कोई चप्पल बना रहा है तो कोई plate या envelopes का काम कर रहा है, तो मुझे बहुत तकलीफ होती थी। लगता था कि ज़िम्मेदारी बहुत सारे हैं और बिना खेल का बचपन हमारे नसीब बन गया है! अपने जीवन को बेहतर बनाने के बारे में सोचने का फुरसत किसी के पास नहीं था क्यूंकि काम नहीं करेंगे तो खायेंगे क्या? सिर्फ अधुरा तालीम और एक ही सोच -- के हम लोगों को नौकरी नहीं मिलेगी। जो सच में गरीब थे, उनके पास BPL card भी नहीं था। सरकार के बहुत साड़ी योहना थे लेकिन लोगों तक नहीं पहुँचता था, हम जान ही नहीं पाते। हम लोग politician को बूरा कहते थे पर फिर से election में उनको ही चुनते थे। बार बार एक ही सवाल मन में आता था -- क्या हमारे पास और कोई option नहीं?

The positive role of youth
लेकिन अब मैं ऐसा नहीं सोचती हूँ। आज मुझे लगता है कि देश को आगे बढाने के लिए मुझे क्षमता चाहिए और system को बदलने के लिए हमे उसका हिस्सा बनना ज़रूरी है। मुझे लगता है कि politicians को बूरा बोलके हम शायद हमारे ज़िम्मेदारी से भागते हैं, और कोई गलत इंसान को चुन कर अपने समाज और अपने देश का नुक्सान करते हैं। पर अगर हम युवा अपने आप को सचमुच इस समाज का एक हिस्सा सोचे और politics में आयें, अपने community से शुरू करके धीरे-धीरे देश और दुनिया के बारे में भी सोचने लगे तो हर इंसान का अच्छे समाज का सपना पूरा हो सकता है।

तो आजकल मैं किसी से नहीं छुपाती हूं की मैं politics करती हूँ। आज इससे मुझे गर्व महसूस होती है। मैं चाहती हूँ की हर इंसान को इंसान होने का हक मिले, समाज में लड़कियां भी सर उठा के जी पाए और SC, ST और धर्म का minority को ले कर कोई issue न हो। अगर हम एक दुसरे को सम्मान और मूल्य दे पायें, तो हम ज़िम्मेदार citizen बन पाएंगे और हमारे पास option होगा कि कोई अच्छे , active citizen से हम हमारे लीडर चुने।

Joining the “system”
तो मैंने शुरू किया -- छोटा काम से बड़े बदलाव लाने की कोशिश। साल २०११। हमारे पार्टी के president चुनने का election में मैं अपने नाम nominate किया। यह चुनाव पार्टी members के vote से ही होता था। मैं जितने memberships किये थे, उस हिसाब से मेरा जीतने का 100% chance था। लेकिन मेरे अपने ही लोगों में से किसी ने मेरे साथ धोंका किया और मैं २ vote से हार गयी। सब ने कहा, "राजनीती में किसी के ऊपर भरोसा नहीं करना चाहिए। तुम कभी भी राजनीती में आगे नहीं बढ़ सकती। Politics के लिए झूठ बोलना ज़रूरी है यह सीख लो, फिर नेता बन जाओगी।"

मैं मेरे दिल में से तनहा के यह सोच निकाला और GS के जगह से अपने इलाका के लोगों के लिए मेंहनत करने लगी। Central Government के scheme के बारे में लोगों को aware करती थी, उनके अधिकारों के बारे में उन्हें बताती थी। पुलिस से मेरा अच्चा पहचान था तो मेरे पाड़ा में जब भी किसी महिला के उपर ज़ुल्म होता था तोह मैं उसकी मदत करती थी। मेरे पाड़ा के लोगों का सोच ऐसा था के औरतें सिर्फ घर सँभालने के लिए हैं और उन्हें अपनी पति का इज्ज़त करना चाहिए; मर्द का हक बनता है बीवी को मारने का। इस लिए जब भी domestic violence के बिरुद्ध मैं बोलती थी, वो लोग मुझे धर्म का डर दिखाते थे। मैंने भी हार नहीं माना। सही तरह से धर्म को जानने की कोशिश की और पता चला की किसी भी धर्म में हिंसा करने का इजाज़त नहीं देते हैं। अगर बीवी को कहा गया है के पति का इज्ज़त करे, तो पतों को भी उसकी हर ख़ुशी का ख्याल रखने के लिए बोला गया है। ऐसा मैं नहीं कहती, ऐसा धर्म कहता है। लगता है की धर्म को भी हमलोग अपने ज़रुरत के हिसाब से ही बताते हैं। पर जब मैं proof के साथ बताने लगी तोह काफी लोग मेरे बात सुनने लगें। यह सब करने के लिए मुझे झूठ नहीं बोलना पड़ा। सच्चाई से अपना काम किया और बहुत लोगों का support मेरे साथ था।

२०१३ में फिर से youth का election था और मैं फिर से president के लिए election लड़ने की तैयारी की थी। इस बार के सब ज़िम्मेदारी मैं अपने आप निभाई पर फिर भी मुझे जीतने के लिए २० और vote की ज़रुरत थी। नर्केलदंगा में जो लड़का मेरे विरुद्ध थे, election से एक दिन पहले मैंने उसका ख़ास आदमी के साथ बात की। हम लोगो के बीच यह तय हुआ की अगर वो अपने vote से २५ vote मुझे देते हैं, तो मैं parliament में मेरा vote उन लोगों को दूंगी। Election के दिन वही हुआ और मैं ६० votes से जीत गयी।

Ethical Dilemmas
सब लोग काफी खुश हो रहे थे पर मुझे अन्दर से ख़ुशी नहीं हो रही थी। मैं बार-बार खुद से यह सवाल कर रही थी कि मैं कुछ गलत तो नहीं किया? मैं भी उसी politics का हिस्सा तो नहीं बन रही हूँ, जिसको मैं बूरा कहती थी? उस समय मेरे लिए सही और गलत में फर्क करना बहुत मुशकिल था। कभी-कभी गलत को सही करने के लिए हम लोग कब गलत का हिस्सा बन जाते हैं यह पता ही नहीं चलता! शायद मेरे साथ में भी कुछ ऐसा ही हुआ था। इससे मैंने सीखा कि एक बार खुदको सवाल ज़रूर करना चाहिए की जो हम कर रहे हैं, उससे किसी को नुक्सान तो नहीं पहुच रहा है?

I have many identities
मैं अभी बेलेघाटा Assembly की president हूँ और अच्छा काम करने की बहुत कोशिश कर रही हूँ। हमारे यहाँ political identity इतना strong है के हम लोग सिर्फ उसके उपर ही सब को judge करते हैं। मेरा सोच यह है के election democracy का एक हिस्सा है। सबको अपना राय देने का हक है। अगर opposition होता है, तो वो अपने मर्ज़ी से जो चाहे गलत नहीं कर पाएंगे और public के पास भी choice होगी। अब हम देखते है के जो power में हैं, वो पुरा साल दुसरे के उपर ज़ुल्म करते हैं। एक ही पाड़ा में एक साथ खेल के बड़े हुए है ऐसा पड़ौसी है या एक इंसान है, सब भूल के एक ही चीज़ याद रखते हैं - कि वो अलग पार्टी का है। वो किसी काम से जाता है तो उसे भगा दिया जाता है। एक identity को लेकर उसको अपने अधिकार से बंचित करते हैं। हम किसी भी पार्टी से जुड़े हो, हमे सोचना चाहिए कि हम लोग इंसान हैं और यही हमारी सबसे बड़ी पहचान होनी चाहिए। एक इंसान की बहुत साड़ी पहचान होती है और हर पहचान उसे समझने के लिए ज़रूरी होती है - जैसे मैं किसी की बेटी हूँ तो किसी की पत्नी, कहीं एक group का member तो कहीं youth trainer, कहीं एक student तो कहीं एक पार्टी की youth leader। हमको याद रखना चाहिए की यह सारी पहचान से ही हम इंसान बनते हैं।
 

1 comment:

  1. Read your blog after himalini suggested I should. I have a proposal. Would be interested in starting a near free medical health care centre in raja bazaar slum. Have already done so in zakaria street and behala. Would this interest you. You will not need to pay anything. Call me if interested. 98300 72720

    ReplyDelete

You can comment without logging-in, just choose any option from the [Comment as:] list box. Comment in any language - start here